Short Essay on 'Jawaharlal Nehru' in Hindi | 'Jawaharlal Nehru' par Nibandh (200 Words)

जवाहरलाल नेहरु

पं० जवाहरलाल नेहरु का जन्म एक अमीर घराने में हुआ था। उन्होंने अपनी प्रारम्भिक शिक्षा घर पर प्राप्त की। वह उच्च शिक्षा के लिए इंग्लैंड गए। वहाँ से लौटकर वह बैरिस्टर हो गए लेकिन उन्होंने वकालत नहीं की।

वह अपने देश को आज़ाद कराना चाहते थे। उनमें देश-भक्ति कूट-कूट कर भरी थी। वह महात्मा गाँधी के संपर्क में आये। उनके जीवन में एक महान परिवर्तन हुआ। वह स्वतंत्रता-संग्राम में कूद पड़े। उन्हें अनेक यातनाएं सहनी पड़ी। कई बार उनको जेल भेजा गया।

सन 1947 में भारत को स्वतंत्रता मिली। नेहरूजी को प्रथम प्रधानमन्त्री चुना गया। उन्होंने देश की गरीबी को दूर करने का प्रयत्न किया। वह भारत में समाजवाद का स्वप्न देखते थे। वे अपना सारा समय देश की समस्याओं को सुलझाने में व्यतीत करते थे। अंतर्राष्ट्रीय समस्याओं के समाधान के लिए सभी राष्ट्र उनकी ओर देखते थे।

उन्होंने संसार में शांति स्थापित करने का प्रयास किया। सारा संसार उनका सम्मान करता था। वह शांति के दूत कहे जाते थे। वह बच्चों को बहुत प्यार करते थे। बच्चे उन्हें 'चाचा नेहरु' कहते थे। उनके जन्मदिन 14 नवम्बर को 'बाल दिवस' के रूप में मनाया जाता है। 27 मई 1964 को उनका देहांत हो गया। सारा संसार शोक में डूब गया।
 

Short Essay on 'Jawaharlal Nehru' in Hindi | 'Jawaharlal Nehru' par Nibandh (200 Words)SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment