Short Essay on 'Road Accident' in Hindi | 'Sadak Durghatna' par Nibandh (193 Words)

Tuesday, January 7, 2014

सड़क दुर्घटना

बड़े-बड़े शहरों में सड़क दुर्घटना आम बात है। सडकों पर हर समय अत्यधिक भीड़ होती है। ट्रक, बस, मोटरकार, स्कूटर, मोटरसाइकिल इत्यादि सड़कों पर तेज़ रफ़्तार से दौड़ती रहती हैं। सभी लोग जल्दी में दिखाई देते हैं।

एक दिन एक सड़क दुर्घटना मेरे सामने भी हुई। मैं सड़क किनारे बने फुटपाथ पर जा रही थी। एक बस सड़क पर सामने से आ रही थी, तभी किनारे वाली सड़क से एक मोटरसाइकिल गलत दिशा से मुड़ी। मोटरसाइकिल अत्यधिक तेज़ रफ़्तार से चल रही थी। बस के सामने पहुंचकर मोटरसाइकिल सवार अपना संतुलन ना संभाल सका तथा तेज़ रफ़्तार से बस के किनारे हिस्से से टकरा गया। मोटरसाइकिल सवार मोटरसाइकिल से छिटककर अलग गिर गया तथा उसके सिर से खून बहने लगा।

धीरे-धीरे उस स्थान पर भीड़ इकट्ठा हो गई। कुछ लोग बस चालक को और कुछ लोग मोटरसाइकिल चालक को दोष देने लगे। कुछ देर में एक पुलिस दरोगा , कांस्टेबिल के साथ आया तथा बस चालक व उपस्थित कुछ लोगों के बयान दर्ज़ किये और मोटरसिकलर चालक को अस्पताल पहुंचवाया।

इस प्रकार की सड़क दुर्घटना से हमें सबक लेना चाहिए कि हमें सड़क पर अत्यंत सावधानी से चलना चाहिए।

Short Essay on 'Road Accident' in Hindi | 'Sadak Durghatna' par Nibandh (193 Words)SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment