11 Interesting Facts about 'Christmas Tree' in Hindi | 'Christmas Vriksh' ke 11 Rochak Tathya

Sunday, January 8, 2017

क्रिसमस वृक्ष के 11 रोचक तथ्य

1. क्रिसमस के पर्व का एक बड़ा आकर्षण है 'क्रिसमस ट्री' अर्थात 'क्रिसमस वृक्ष'।
2. लगभग हर जगह क्रिसमस के पर्व पर क्रिसमस के पेड़ (Christmas–Tree) को रंग–बिरंगी रोशनी से सजाया जाता है।
3. क्रिसमस के मौके पर क्रिसमस वृक्ष का विशेष महत्व है। आस्था के साथ-साथ इसमें स्वास्थ्य और खुशहाली कि मान्यताएं भी जुडी हैं।
4. एक मान्यता के अनुसार क्रिसमस ट्री को क्रिसमस पर सजाने की परम्परा जर्मनी से प्रारम्भ हुयी। यहाँ से 19वीं सदी से यह परम्परा इंग्लैंड में पहुँच गयी, जहाँ से सम्पूर्ण विश्व में यह प्रचलन में आ गयी।
5. वैसे तो क्रिसमस ट्री की कहानी प्रभु यीशु मसीह के जन्म से है। जब उनका जन्म हुआ तब उनके माता पिता मरियम एवं जोसेफ को बधाई देने वालो ने, जिनमे स्वर्गदूत भी थे, एक सदाबहार फर को सितारों से रोशन किया था। तब से ही सदाबहार क्रिसमस फर के पेड़ को क्रिसमस ट्री के रूप में मान्यता मिली।
6. 25 दिसम्बर से पहले क्रिसमस की जो सबसे अहम् तैयारी है उनमें एक क्रिसमस ट्री की सजावट भी है। बड़े-बच्चे-बुजुर्ग सभी क्रिसमस वृक्ष की सजावट में जुट जाते हैं।
7. इन वृक्षों पर मोमबत्तियों, टॉफियों और बढ़िया किस्म के केकों को रिबन और कागज की पट्टियों से बांधा जाता है।
8. क्रिसमस ट्री पर छोटी छोटी मोमबत्तियाँ लगाने का प्रचलन 17वी शताव्दी से शुरू हो गया था।
9. प्राचीन काल में क्रिसमस ट्री को जीवन की निरंतरता का प्रतीक माना जाता था। मान्यता थी कि इसे सजाने से घर के बच्चों की आयु लम्बी होती है। इसी कारण क्रिसमस डे पर क्रिसमस वृक्ष को सजाया जाने लगा।
10. माना जाता है कि इसे घर में रखने से बुरी आत्माएं दूर होती हैं तथा सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह होता है।
11. बाजार में कई आकार के क्रिसमस ट्री मिलते हैं। इनमें से कुछ सस्ते एवं कुछ काफ़ी महंगे भी होते हैं। कई दुकानों पर यह शोपीस के रूप में कांच के भी उपलब्ध रहते हैं।


11 Interesting Facts about 'Christmas Tree' in Hindi | 'Christmas Vriksh' ke 11 Rochak TathyaSocialTwist Tell-a-Friend

0 comments:

Post a Comment