'Solar Eclipse' in Hindi | 'Surya Grahan' par Nibandh (335 Words)

Sunday, March 26, 2017

सूर्य ग्रहण

'सूर्य ग्रहण' एक तरह का ग्रहण है जब चन्द्रमा, पृथ्वी और सूर्य के मध्य से होकर गुजरता है तथा पृथ्वी से देखने पर सूर्य पूर्ण अथवा आंशिक रूप से चन्द्रमा द्वारा आच्छादित होता है। विज्ञान की दृष्टि से जब सूर्य व पृथ्वी के बीच में चन्द्रमा आ जाता है तो चन्द्रमा के पीछे सूर्य का बिम्ब कुछ समय के लिए ढक जाता है, उसी घटना को सूर्य ग्रहण कहा जाता है।

सूर्य ग्रहण तीन प्रकार के होते हैं जिन्हें पूर्ण सूर्य ग्रहण, आंशिक सूर्य ग्रहण व वलयाकार सूर्य ग्रहण कहते हैं:
  1. पूर्ण सूर्य ग्रहण उस समय होता है जब चन्द्रमा पृथ्वी के काफ़ी पास रहते हुए पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है और चन्द्रमा पूरी तरह से पृ्थ्वी को अपने छाया क्षेत्र में ले लेता है।
  2. आंशिक सूर्यग्रहण में जब चन्द्रमा सूर्य व पृथ्वी के बीच में इस प्रकार आए कि सूर्य का कुछ ही भाग पृथ्वी से दिखाई नहीं देता है अर्थात चन्दमा, सूर्य के केवल कुछ भाग को ही अपनी छाया में ले पाता है।
  3. वलयाकार सूर्य ग्रहण में जब चन्द्रमा पृथ्वी के काफ़ी दूर रहते हुए पृथ्वी और सूर्य के बीच में आ जाता है अर्थात चन्द्र सूर्य को इस प्रकार से ढकता है, कि सूर्य का केवल मध्य भाग ही छाया क्षेत्र में आता है।
सूर्य ग्रहण सदैव अमावस्या को ही होता है। जब चन्द्रमा क्षीणतम हो और सूर्य पूर्ण क्षमता संपन्न तथा दीप्त हों। सूर्य ग्रहण के दिन सूर्य और चन्द्रमा के कोणीय व्यास एक समान होते हैं। इस कारण चन्द्रमा सूर्य को केवल कुछ मिनट तक ही अपनी छाया में ले पाता है। सूर्य ग्रहण के समय जो क्षेत्र ढक जाता है उसे पूर्ण छाया क्षेत्र कहते हैं।

हिंदू धर्म में सूर्य ग्रहण का बहुत महत्व है। शास्त्रों में भी ग्रहण से जुड़ी कई बातें कही गई हैं। भारत में ग्रहण को लेकर कई अंधविश्वास भी हैं। जबकि विज्ञान ग्रहण को लेकर किसी भी अंधविश्वास को नहीं मानता। विज्ञान के मुताबिक ग्रहण पूरी तरह खगौलीय घटना है।

'Solar Eclipse' in Hindi | 'Surya Grahan' par Nibandh (335 Words)SocialTwist Tell-a-Friend

0 comments:

Post a Comment